राजस्थान की झीलें

Rajasthan GK : Rajasthan ki jhilen (राजस्थान की झीलें) important for Rajasthan Patwar , Police, BSTC, PTET, REET, and High Court Group-D

साँभर झील (Rajasthan ki jhilen)

  • यह झील (जयपुर) फुलेरा तहसील में स्थित है।
  • यह भारत में स्थित दुसरी सबसे बड़ी खारे पानी की झील है।
  • इस झील का निर्माण चौहान वंश के शासक वासुदेव ने करवाया था।
  • देश में नमक का उत्पादन का 8.7%भाग यहां से उत्पादित होता है।

कुचामन झील : Rajasthan GK

  • यह खारे पानी की झील नागौर में स्थित है।

नक्की झील (for BSTC, PTET, Police, Patwar)

  • यह झील राजस्थान में सिरोही जिले के माउंट आबू मे स्थित है।
  • यह झील राजस्थान की सबसे ऊँची और गहरी झील है।
  • यहां एक चट्टान की आकृति महिला के समान है,जिसे नन रॉक कहते है।
  • इस झील के टापू पर रघुनाथ जी का मंदिर है।
  • इस झील का निर्माण ज्वालामुखी के उद्भेदन से हुआ था अर्थात यह प्राकृतिक झील है।

कोलायत झील :

  • यह झील राजस्थान में बीकानेर जिले के पास कोलायत नामक स्थान पर यह कोलायत झील है।
  • यहीं पर कपिल मुनि का आश्रम भी स्थित है।
  • कोलायत झील का निर्माण कपिल मुनि ने किया था।

पिछोला झील :

  • इस झील का निर्माण राणा लाखा के शासन काल में एक पिछु नामक बनजारे ने किया था।
  • यह मीठे पानी की झील है।
  • इस झील के पास ‘गलकी नटणी’ का चबुतरा बना हुआ है।
  • मुगल वंश के शासक शाहाजाहाँ ने अपने पिता से विद्रोह के समय यहां शरण लिया था।

फलौदी झील :

  • फलौदी (जोधपुर) यह खारे पानी की झील है।

पुष्कर झील :

  • यह झील राजस्थान के अजमेर से 12km. की दूरी पर पुष्कर नामक स्थान पर पुष्कर झील स्थित है।
  • यह झील राजस्थान की सबसे पवित्र झील है।
  • इस झील का निर्माण ज्वालामुखी के उद्भेदन से हुआ अर्थात यह एक प्राकृतिक झील है।
  • इस झील के चारो तरफ अनेक प्राचीन मन्दिर है।
  • यहां ब्रह्ममा जी का विश्व प्रसिद्ध एकमात्र मन्दिर है।
  • इस मंदिर का निर्माण 10वीं शताब्दी में पंडित गोकुलचंद पारिक ने करवाया था।
  • राजस्थान की सबसे पवित्र झील होने के कारण इस झील को तीर्थों का मामा या तीर्थराज भी कहा जाता है।

बालसमंद झील :

  • यह झील जोधपुर में स्थित है।
  • इस झील का निर्माण सन् 1159 में परिहार वंश के शासक बालक राव ने करवाया था।
  • महाराजा सुरसिंह ने बालसमंद झील के बीच में अष्ट खम्भा महल का निर्माण किया।
  • यह मीठे पानी की झील है।

जयसमंद झील : Rajasthan Ki Jhilen

  • यह झील उदयपुर जिले में स्थित है।
  • यह विश्व में मीठे पानी की दुसरी सबसे बड़ी और एशिया की सबसे बड़ी कृत्रिम झील है।
  • इस झील का दुसरा नाम ढेबर झील भी है।
  • इस झील का निर्माण मेवाड़ के शासक राणा जयसिंह ने सन्1687-91 में गोमति नदी पर निर्माण किया।
  • इस जयसमंद झील से उदयपुर जिले को पीने का पानी उपलब्ध कराया जाता है।
  • इस झील में 7 टापू है।
  • इनमें से कुछ टापू छोटे है और कुछ टापू बड़े है।
  • छोटे टापू का नाम प्यारी है और टापू का नाम बाबा का भगड़ा है।

राजस्थान के दुर्ग : हिंदी में पढ़े

राजस्थान की नदियाँ : हिंदी में पढ़ें

आनासागर झील :

  • यह झील अजमेर शहर के बीच स्थित है।
  • यह मीठे पानी की झील है।
  • इस झील का निर्माण सन् 1137ई. में राजा अजयराज के पुत्र अर्णोराज चौहान के द्वारा कराया गया।
  • मुगल शासक शाहाजाहाँ ने यहां पर 12 दरी का निर्माण करवायाऔर जाहांगीर ने दौलतबाग का निर्माण करवाया जिसको आज के समय में सुभाष उद्यान कहते है।

तालछापर झील :

  • यह चुरु में स्थित है,यह खारे पानी की झील हैँ।

उदयसागर झील : Rajasthan GK Notes PDF Download

  • यह मीठे पानी की झील है।
  • यह उदयपुर में स्थित है।
  • इस झील का निर्माण सन् 1559 से 1564 में महाराणा उदयसिंह द्वारा किया गया था।

राजसमंद झील :

  • यह झील राजस्थान में राजसमंद जिले के कांकरोली के पास स्थित है।
  • इस झील का निर्माण1 1662 ई. में महाराणा राजसिंहा के द्वारा करवाया गया था।
  • इस झील का जो उत्तरी भाग है वो ‘नो चोकी’ कहलाता है।
  • यहां पर 25 काले संगमरमर की चट्टानों से बनी राजप्रशस्ति है इस चट्टानों पर मेवाड़ का पूरा इतिहास संस्कृत में उत्कीर्ण है।
  • यह प्रशस्ति संसार की सबसे बड़ी राजप्रशस्ति है।

5 thoughts on “राजस्थान की झीलें”

  1. प्रतियोगिताओं के लिए अच्छा खजाना

Leave a Comment

error: डाटा कॉपी करने की कोशिश न करें , धन्यवाद!!!!