Rajasthan ke sant sampraday | राजस्थान के संत सम्प्रदाय | Rajasthan Gk

in this post i am going to tell about rajasthan ke sant sampraday pdf (राजस्थान के संत सम्प्रदाय) very well. this is very helpful for your exam which have Rajasthan GK.

नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से आपको राजस्थान सामान्य ज्ञान का महत्वपूर्ण टॉपिक राजस्थान के संत सम्प्रदाय के बारे में बताने वाला हूँ | इस पोस्ट में मैंने राजस्थान के सम्प्रदाय के टॉपिक को बहुत अच्छे से समझाया है |

राजस्थान के संत सम्प्रदाय Rajasthan ke sant samprday

सगुण भक्ति धारा

👉 शैव संप्रदाय

• भगवान शिव की उपासना करने वाले शैव कहलाते हैं।

•शैव मत के कापालिक एवं पाशुपात संप्रदायों का राजस्थान में काफी विस्तार हुआ है।

👉 नाथ संप्रदाय

• नाथ संप्रदाय के प्रवर्तक मुनि थे।

• मत्स्येंद्रनाथ, भृतहरी, आदि प्रसिद्ध संत थे।

• राजस्थान में नाथ मत की शाखाएं -1. बेरंग पंथ पुष्कर के पास राताडूगा 2. माननाथी पंत – ( जोधपुर का महा मंदिर)

✔️ प्रमुख वैष्णव संप्रदाय

👉 रामानुज संप्रदाय

• प्रवर्तक 11 वीं सदी में रामानुजाचार्य। 15 राम की पूजा अर्चना की जाती है।

👉 रामानंदी संप्रदाय

• भारत में रामानंद के शिष्य गुरु रामानंद के द्वारा वैष्णव आंदोलन परिवर्तित मत रामानंदी संप्रदाय कहलाया।

• कबीर जी, धनाजी, पीपाजी,सेनानाई, रैदास आदि इन के प्रमुख शिष्य हुए।

• कान में रामानंदी संप्रदाय का प्रारंभ संत श्री कृष्ण दास जी पयहारी ने किया।

• इनकी प्रमुख पीठ गलता जी, जयपुर है।

👉 निंबार्क संप्रदाय

• आचार्य निंबार्क द्वारा 12 वीं सदी में परिवर्तित। राजस्थान में प्रधान पीठ किशनगढ़( अजमेर) के समीप सलेमाबाद में है।

• जो आचार्य परशुराम द्वारा स्थापित की गई थी इसे हंस संप्रदाय भी कहते हैं।

👉 वल्लभ संप्रदाय

• प्रवर्तन वल्लवाआचार्य द्वारा सोनी सदी में( पुष्टिमार्गीय) वृंदावन में वल्लवाआचार्य के पुत्र विट्ठलनाथ ने “अष्टछाप कवि मंडली” का संगठन किया।

• इस संप्रदाय की विभिन्न पीठ निम्न है-

  1. प्रमुख पीठ : विट्ठलनाथजी, नाथद्वारा
  2. मथुरेश जी, कोटा 3. द्वारकाधीश जी, कांकरोली
  3. गोकुलनाथजी, गोकुल( उत्तर प्रदेश)
  4. गोकुल चंद्र जी – कामवन( भरतपुर)

• किशनगढ़ के शासक सावंत सिंह जी( भक्त नागरी दास) इस संप्रदाय के परम भक्त हो गए थे।

👉 ब्रह्मा या गौड़ीय संप्रदाय

• स्वामी माधवाचार्य द्वारा 12 वीं सदी में परिवर्तित। इस संप्रदाय को जन जन तक फैलाने का कार्य उनके गौरांग महाप्रभु चैतन्य ने किया।

• उन्होंने रासलीला एवं संकीर्तनी को कृष्ण भक्ति का मध्यम बनाया।

निर्गुण भक्ति धारा

👉 जसनाथी

• संत जसनाथ जी द्वारा प्रवर्तित। प्रमुख पीठ कतरियासर (बीकानेर) । उपदेश : सिंभूदडा व कोंडा ग्रंथ में संग्रहित है।

• अनुयायियों के लिए 36 धर्म नियम है। संप्रदाय के साधु जीवित समाधि लेते हैं।

• धधकते अंगारों पर अग्नि नृत्य संप्रदाय की प्रमुख विशेषता है।

• इस संप्रदाय के अधिकांश अनुयाई जाट है। Rajasthan ke sant sampraday

👉 बिश्नोई संप्रदाय

• संप्रदाय के प्रमुख पीठ मुकाम तलवा( नोखा, बीकानेर) है।

• संप्रदाय के प्रवर्तक जांभोजी थे। Rajasthan ke sant sampraday

• जंभ सागर, जंभ संहिता, बिश्नोई धर्म प्रकाश प्रमुख ग्रंथ है।

• अनुयायियों को 38 नियमों के पालन का उपदेश, जिनमें हरे वृक्षों के काटने पर रोक, जीवो पर दया करना, नशीली वस्तुओं के सेवन पर प्रतिबंध आदि प्रमुख है।

• पर्यावरण सुरक्षा हेतु पुराना तक का बलिदान कर देने के लिए यह संप्रदाय प्रसिद्ध है।

👉 दादू पंथ

• दादू पंथ की प्रमुख पीठ नारायणा( जयपुर), प्रमुख शिष्य गरीब दास जी, मिस्कीन दास जी, मखना जी, रजब्ब जी, सुंदर दास जी थे।

• उपदेश : दादू जी री वाणी व दादू जी रा दूहा मैं संग्रहीत।
भाषा – हिंदी मिश्रित सधूकड़ी। Rajasthan ke sant sampraday

• संत दादू को राजस्थान का कबीर कहा जाता है

• नारायणा में भैराना पहाड़ी पर स्थित गुफा, जिसमें दादू जी ने समाधि ली।

👉 लालदास जी संप्रदाय

• मेवात क्षेत्र के मध्यकालीन संत लाल दास जी द्वारा प्रवर्तित। प्रमुख स्थल शेरपुरा एवं धोली दूव तथा नगला गांव।

•अलवर भरतपुर के महल जाति के लोग इसके अनुयाई है।

👉 चरणदासी पंथ

• संत चरणदास जी(1703-1782) द्वारा प्रवर्तित। इनकी प्रमुख वीट दिल्ली संत जी का जन्म डेहरा( अलवर) मैं हुआ।

• इन्होंने नादिरशाह के आक्रमण की भविष्यवाणी की थी।

👉 रामस्नेही संप्रदाय

• राजस्थान में रामस्नेही संप्रदाय का प्रवर्तन श्री राम चरण दास जी ने किया।

• इसकी राजस्थान में चार प्रमुख पीठे हैं –

  1. शाहपुरा(भीलवाड़ा) मुख्य पीठ – संत राम चरण द्वारा परिवर्तित।
  2. रैण शाखा( मेड़ता, नागौर) – संत दरियाव जी द्वारा परिवर्तित।
  3. सिंहथल शाखा( बीकानेर) – संत हरिराम दास जी द्वारा परिवर्तित। प्रमुख कृति निशानी थी।
  4. खेड़ापा शाखा( जोधपुर) – संत रामदास जी द्वारा परिवर्तित।

👉 निरंजनी संप्रदाय

• प्रवर्तक संत हरिदास जी प्रमुख पीठ गाढ़ा ,डीडवाना (नागौर) में है।

राज्य के अन्य लोग संत

👉 संत पीपा (1383-1453)

• इनका जन्म गागरोन। संत रामानंद जी से ली। दर्जी समुदाय के आराध्य।
• इनका प्रमुख मंदिर समदड़ी ग्राम, बाड़मेर में है जहां इला भरता है।

• संत पीपा कुछ समय टोडा ग्राम, टोंक में भी रहे जहां पीपा जी की गुफा है।

👉 संत सुंदरदास जी

• दादू जी के परम शिष्य थे। इनका जन्म दोसा व निधन सांगानेर में हुआ।

• उन्होंने दादू पंथ में नागा शाखा का प्रचार किया।

• इनका प्रमुख ग्रंथ ज्ञान समुंदर, ज्ञान सवैया, सुंदर ग्रंथावली आदि।

👉 मीरा

• उनके जन्म का नाम पेमल था। पिता श्री रतन सिंह जी राठौड़ बाजोली के जागीरदार थे।

• इनका विवाह मेवाड़ के महाराणा संग्राम सिंह(सांगा) के पुत्र भोजराज से हुआ।

• पति की मृत्यु के बाद कृष्ण भक्ति में तल्लीन हो गई।

•मीरा की पदावलीया प्रसिद्ध है। उनकी मृत्यु गुजरात के डाकोर स्थित रणछोड़ मंदिर में हुई।

👉 संत मावजी

• बागड़ प्रदेश के संत जिनका जन्म साबला ग्राम डूंगरपुर में हुआ।

• प्रमुख मंदिर एवं पीठ : माही नदी के निकट साबला ग्राम। इन्होंने वागडी भाषा में कृष्ण लीलाओं की रचना की।

• इनकी वाणी( उपदेश) चोपड़ा कहलाती है। यह कृष्ण के ने कलंकी अवतार के रूप में प्रतिष्ठापित है।

मुस्लिम संत

👉 ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती

• जन्म 1135 ई. मे संजरी(फारस) मे हुआ। चिश्ती सिलसिले के प्रमुख संत।

• चौहान सम्राट पृथ्वीराज तृतीय के शासनकाल में राजस्थान में आए व क्रमस्थली अजमेर को बनाया।

• हजरत शेख उस्मान हारुनी के शिष्य थे।

• अजमेर में उनकी प्रसिद्ध दरगाह है जहां उसका विशाल मेला भरता है। यह हिंदू मुस्लिम सांप्रदायिक सद्भाव का सर्वोत्तम स्थल है।

• ख्वाजा साहब का इंतकाल 1233 ई. अजमेर में हुआ।

👉 नरहड़ के पीर

• हजरत शक्कर बार पीर दरगाह : नरहड़ ग्राम चिड़ावा, झुंझुनू।

• बांगड़ के धनी के रूप में प्रसिद्ध।

👉 पीर फखरुद्दीन

• गलियाकोट, डूंगरपुर में इनकी दरगाह है। जो दाऊदी बोहरा संप्रदाय का प्रमुख धार्मिक स्थल है।

राजस्थान की सभ्यता के बारे में पढने के लिए क्लिक करे |

राजस्थान की जनजातिया पढने के लिए क्लिक करे |

Leave a Comment

error: डाटा कॉपी करने की कोशिश न करें , धन्यवाद!!!!