राजस्थान के खनिज | समझें आसन भाषा में | BSTC, PTET, Patwar, Police

rajasthan ke khanij | राजस्थान के खनिज | Rajasthan BSTC, PTET, Patwar, Police, High Court Group-D GK PDF Download. Dowonload Free Rajasthan GK.

राजस्थान खनिज की संपदा (Rajasthan ke khanij) :

  • राजस्थान का खनिजों की दृष्टि से झारखंड के पश्चात दूसरा स्थान है |
  • खनन क्षेत्र से होने वाली आय की दृष्टि से राजस्थान का देश में चौथा स्थान है |
  • जेस्पार, तांमडा, वूलेस्टोनाईट और पन्ना का राजस्थान देश का एकमात्र उत्पादक राज्य है |
  • जिप्सम : इसे सेलखड़ी, हरसौंठ, खड़िया के नाम से जाना जाता है राजस्थान का प्रथम स्थान है |
  • राजस्थान में लिग्नाइट एवं प्राकृतिक गैस सहित 67 खनिजों का दोहन किया जाता है | इनमें 44 प्रकार के प्रधान और 23 प्रकार के गौण खनिजों का खनन कार्य होता है | इस कारण राजस्थान को खनिजों का अजायबघर कहा जाता है |
  • यदि खनिज का धरातल चिकना और चमकीला हो तो यह धात्विक होता है | जैसे तांबा, जस्ता, लोहा आदि |
  • अधात्विक खनिज ताप के सुचालक होते हैं |
  • यदि खनिज का धरातल चमक से रहित हो जिन्हें परिष्कृत नहीं किया जा सकता तो यह अधात्विक खनिज होते हैं, जैसे : जिप्सम, रॉक-फास्फेट, अभ्रक आदि |
  • भारत की कुल खनिज उत्पादन का 560% राजस्थान से प्राप्त होता है इस दृष्टि से देश में राजस्थान का पांचवा स्थान आता है |
  • वर्तमान में राजस्थान वूलेस्टोनाईट, तांबडा और पन्ना का एकमात्र उत्पादक राज्य है|

धात्विक खनिज (Rajasthan ke Khanij) :

जस्ता :

  • भूगर्भ में जस्ता, सीसा, चांदी, तांबा, गंधक का तेजाब के साथ मिश्रित रूप में पाया जाता है |
  • राजस्थान का भारत में जस्ता उत्पादन में लगभग एकाधिकार है |
  • यहां भारत का 90% जस्ता प्राप्त होता है |
  • जस्ता लोहे को जंग से बचाने के लिए पॉलिश करने रसायन उद्योगों में काम आता है |
  • उसके अतिरिक्त इसका उपयोग रंग रोगन बनाने, बिजली के सेल बनाने, मोटर के पुर्जे बनाने, दवाइयों आदि में भी काम होता है |
  • राज्य में सीसा जस्ता अयस्क के 3330 लाख टन के भंडार हैं
  • राजस्थान में जस्ता खनन क्षेत्र :
  • जवार मोचिया मगर क्षेत्र
  • गुलाबपुरा-आगुचा  क्षेत्र
  • अन्य क्षेत्र (बांसवाडा में बारडलिया, सवाईमाधोपुर  में चौथ का बरवाडा, अलवर जिले में गुढा-किशोरीदास क्षेत्र आदि में जस्ता खनन किया जाता है |

टंगस्टन :

  • राजस्थान में टंगस्टन वुल्फ्रेमाइट अयस्क से प्राप्त होता है |
  • यह भारी, कठोर और उच्च द्रवणांक वाली धातु है |
  • यह उच्च ताप पर भी नहीं पिघलती, विद्युत की सुचालक होने से विद्युत बल्बों में फिलामेंट इसी धातु से बनाए जाते हैं |
  •  इस धातु से रडार, भारी बंदूकों की नालियांम, टैंक भेदी यंत्र, जेट इंजन के कल पुर्जे, प्रक्षेपास्त्र आदि बनाए जाते हैं, इस कारण यह सामरिक महत्व का खनिज है |
  • इनके अतिरिक्त एक्स-रे रेडियो व टेलीविजन उपकरणों, विद्युत संयंत्रों, रंगाई छपाई उद्योगों में भी होता है |
  • टंगस्टन के निक्षेप मुख्यतः ग्रेनाइट व पेगमाटाइट के साथ पाए जाते हैं|
  • राजस्थान में टंग्स्टन का वितरण :
  • नागौर जिले के डेगाना में
  • सिरोही जिले के बाल्दा क्षेत्र में
  • डूंगरपुर जिले के अमरतिया में
  • उदयपुर जिले के कुण में
  • पाली जिले के बराठिया व
  • अजमेर जिले के लादेरा-साकुण क्षेत्र में टंग्स्टन के जमाव पाए जाते हैं |

चांदी :

  • राजस्थान में चांदी के उत्पादक क्षेत्र उदयपुर के पास सीसा-जस्ता की जावर खदानें एवम जावरमाला की पहाड़ियां आदि है |
  • हिंदुस्तान जस्ता शोधन संयंत्र से सीसा-जस्ता व तांबा के मिश्रण से चांदी को निकाला जाता है |

तांबा:

  • तांबा राजस्थान में ताम्र युगीन काल से ही निकाला एवं शोध किया जाता रहा है |
  • अलौह धातुओं में तांबा सबसे महत्वपूर्ण है  |
  • यह अधिकतर आग्नेय व कायांतरित शैलो से प्राप्त होता है  |
  • इसका रंग लाल भूरा है, तांबा बहुत लचीला एवं विद्युत का उत्तम सुचालक होने के कारण देश का प्रमुख खनिज है  |
  • सामान्यतः तांबे की कुल मात्रा का 40% बिजली के यंत्रों, 15% तारों, और 45% अन्य धातुओं के साथ मिलाकर सैनिक कार्य, बर्तन आदि में उपयोग में लाया जाता है |
  • तांबा उत्पादन की दृष्टि से राज्य का देश में द्वितीय स्थान है |
  • राज्य में तांबे का शोधन खेतड़ी में हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड के द्वारा किया जाता है | जहां प्रतिवर्ष 31000 टन तांबे का शोधन किया जाता है |
  • राजस्थान मेंतांबा उत्पादन क्षेत्र  :
  • खेतड़ी सिंघाना क्षेत्र
  • नीमकाथाना क्षेत्र
  • खो दरीबा क्षेत्र

संगमरमर:

  • राजस्थान में अच्छे किस्म के संगमरमर के 11 100 मिलियन टन के भंडार है  |
  • राजस्थान में संगमरमर के 3710 खनन पट्टे हैं |
  • राज्य में संगमरमर के सर्वाधिक खनन पट्टे राजसमंद जिले (1727) में है | \
  • राज्य में संगमरमर के उत्पादन की दृष्टि से राजसमंद जिला प्रथम स्थान पर उदयपुर जिले का हरे संगमरमर के उत्पादन में प्रथम स्थान हैं|
  • राजस्थान में संगमरमर का वितरण : (नागौर राजसमंद उदयपुर)

Rajasthan Study Is One Stop Destination Where You Can Get Every Information About Latest Jobs, Entrance Exams, Free Mock Test, Books Collection & More .

Leave a Comment