Rajasthan ki sathiti aur vistar| राजस्थान की स्थिति और विस्तार |Rajasthan GK

in this post i am going to tell about rajasthan ki sthiti aur vistar pdf very well. this is very helpful for your exam which have Rajasthan GK.

नमस्कार दोस्तों इस पोस्ट के माध्यम से आपको राजस्थान सामान्य ज्ञान का महत्वपूर्ण टॉपिक राजस्थान की स्थिति और विस्तार PDF के बारे में बताने वाला हूँ | इस पोस्ट में मैंने राजस्थान की स्थिति और विस्तार के टॉपिक को बहुत अच्छे से समझाया है |

तो चलिए शुरू करते है , राजस्थान की स्थिति और विस्तार Notes के इस महत्वपूर्ण टॉपिक को-

राजस्थान की स्थिति और विस्तार |rajasthan ki sthiti aur vistar|

राजस्थान भारत देश के उत्तरी पश्चिमी में भाग में स्थित है।8

=> उत्तरी भाग में गंगानगर जिला, तहसील गंगानगर कोंना गांव, दक्षिण भाग में बांसवाड़ा, तहसील कुशलगढ़, बोरकुंड गांव , पूर्व में धौलपुर जिला, राजाखेड़ा तहसील, सिलाना गांव एवं पश्चिम में जैसलमेर जिला,सम तहसिल, कटरा गांव स्थित है।

=> राजस्थान के मध्य में नागौर जिला आता है यदि गांव पूछा जाए तो मकराना गांव आता है।.

=>राजस्थान की उत्तर से दक्षिण की लंबाई 826 वर्ग किलोमीटर है।

=>पूर्व से पश्चिम की चौड़ाई 869 वर्ग किलोमीटर है।

=>राजस्थान की लंबाई एवं चौड़ाई के मध्य अंतर पूछा जाए तो 43वर्ग किमी. होता है।

=>राजस्थान में सबसे पहले सूर्योदय एवं सूर्यास्त सिलाना गांव राजाखेड़ा तहसील, धौलपुर में होता है।

=>सबसे बाद में सूर्योदय व सूर्यास्त कटरा गांव, सम तहसील जैसलमेर में होता है।

=>पृथ्वी की जलवायु एवं स्थिति तथा समय का निर्धारण करने के लिए दो रेखाओं का अध्ययन किया जाता है।

√ अक्षांश
=>हमारी पृथ्वी के ग्लोब पर सामान्यतया आडी ( पूरब से पश्चिम) खींची जाने वाली रेखा को अक्षांश रेखा कहा जाता है।

=>जो इस पृथ्वी की जलवायु एवं स्थिति का निर्धारण करती है।

=>हमारी पृथ्वी को दो सम्मान भागों में विभाजित करने वाली अक्षांश रेखा को हम 0° रेखा, भूमध्य रेखा, विषुवत रेखा कहते हैं।

=>इसी अक्षांश रेखा से पृथ्वी दो भागों उत्तरी गोलार्ध एवं दक्षिणी गोलार्ध में विभाजित होती है।

=>हमारा भारत देश एवं राजस्थान राज्य उत्तरी गोलार्ध में स्थित है, इसी कारण भारत या राजस्थान राज्य के लिए हमेशा अक्षांश उत्तर से उत्तर चलता है।

=>दो अक्षांशों के मध्य 111.13 किलोमीटर की दूरी होती हैं।

=>अक्षांश से किसी प्रदेश की स्थिति एवं ताप कटिबंधो का निर्धारण किया जाता है।
=>अक्षांशों के मध्य भाग को जाल कटीबंध कहते हैं।

=>कुल अक्षांश रेखाएं 180 होती हैं।

=>ग्लोब पर अक्षांश रेखाएं (89°+89°+0° =179) होती है।

=>मानचित्र पर (90°+90°+0°=181) होती है।

=>सभी अक्षांश रेखाएं वृत का निर्माण करती है सबसे बड़ा वृत विषुवत रेखा बनाती है।

=>जीरो डिग्री भूमध्य रेखा सबसे बड़ी रखा है।

=>अक्षांश रेखाओं के द्वारा जलवायु का निर्धारण किया जाता है।

=>45° पश्चिमी अक्षांश ग्लोब पर प्रदर्शित नहीं होता क्योंकि 45° देशांतर होता हैं।

✓मुख्य अक्षांश रेखाएं निम्न है-

👉 कर्क रेखा है :-
यह 23½ डिग्री उत्तरी अक्षांश रेखा होती है।

=.कर्क रेखा पर सूर्य की किरणें 21 जून के दिन सीधी चमकती हैं

=>इसलिए यह उत्तरी गोलार्ध भारत में इस दिन सबसे बड़ा दिन और सबसे छोटी रात होती है।

=>यह रेखा भारत के मध्य से निकलकर भारत को दो भागों में विभक्त करती है।

=> भारत में कर्क रेखा गुजरात, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छतीसगढ़ झारखंड, पश्चिम बंगाल, त्रिपुरा, मिजोरम 8 राज्यों से गुजरती है।

👉 भूमध्य रेखा /विषुवत रेखा

=> पृथ्वी को दो (उत्तरी भाग उत्तरी गोलार्ध एवं दक्षिणी भाग को दक्षिणी गोलार्ध) में विभाजित करने के कारण इसे भूमध्य रेखा कहते हैं।

=>भूमध्य रेखा पर सूर्य की किरणें 21 मार्च व 23 सितंबर के दिन सीधी चमकती हैं, कारण इस दिन पूरे विश्व में दिन व रात की अवधि समान होती है।

Rajasthan ki sthiti aur vistar

👉 मकर रेखा
=> यह 23½° दक्षिणी अक्षांश रेखा है।

=>मकर रेखा पर सूर्य की किरणें 22 दिसंबर को सीधी चमकती है

✓ देशांतर
=>हमारी पृथ्वी के ग्लोब पर सामान्यतया सीधी या खड़ी( उत्तर से दक्षिण) खेंची जाने वाली रेखा को देशांतर रेखा कहा जाता है।

=>जो इस पृथ्वी के समय का निर्धारण करती है।

=>0 डिग्री देशांतर रेखा भी हमारी पृथ्वी को दो भागों पूर्वी एवं पश्चिमी गोलार्ध में विभाजित करती है।

=>हमारा भारत देश एवं राजस्थान राज्य पूर्वी गोलार्ध में स्थित है।

=> इसी कारण भारत या राजस्थान राज्य के लिए हमेशा देशांतर पूर्व से पूर्व चलता है।

√ 1 डिग्री देशांतर को पार करने में सूर्य को 4 मिनट का समय लगता है।
1° = 1 घंटा / 60 मिनट
1′. = 1 मिनट /60 सेकंड
1″ = 1 सेकंड /60 मिली सेकं

=>राजस्थान का अक्षांशीय विस्तार 23°03 उत्तरी अक्षांश से 30°12 उत्तरी अक्षांश है एवं देशांतरीय विस्तार 69°30 पूर्वी देशांतर से 78°17 पूर्वी देशांतर तक है ।

👉देशांतर व मध्यांतर रेखा
=> केंद्रीय मध्यांतर रेखा से किसी स्थान की कोणात्मक दूरी देशांतर कहलाती है।

=>ग्लोब या पृथ्वी पर उत्तरी ध्रुव को दक्षिणी ध्रुव से मिलाने वाली काल्पनिक रेखा को देशांतर रेखा कहते हैं।

=>कुल देशांतर रेखाएं 360 होती है।

=>देशांतर 180° पूर्व या पश्चिम होते हैं

=>सभी देशांतर रेखाओं की लंबाई समान होती है और को दो बराबर भागों में विभाजित करती है।

=>दो देशांतर के बीच के क्षेत्र को गौर क्षेत्र कहते हैं।

=>दे ग्लोब पर धूर्वो को मिलाते हुए अर्धवृत्त होती है।

=>जबकि मानचित्र पर खड़ी रेखाएं के रूप में होती है।

=>विषुवत रेखा पर दो देशांतर के मध्य अधिकतम दूरी 111.32किमी. एवं ध्रुव पर न्यूनतम दूरी 0 किलोमीटर होती है।

देशांतर रेखाओं के उपयोग- (Rajasthan ki sthiti aur vistar)
(i) स्थिति (ii) निर्धारण मानचित्रण (iii) समय निर्धारण

👉 केंद्रीय मध्यमान रेखा
=> इसे प्रधान याम्योत्तर रेखा या ग्रीनविच रेखा भी कहते हैं।
=>इस रेखा से अंतरराष्ट्रीय समय का निर्धारण होता है।

=>कर्क रेखा राजस्थान के 2 जिलों डूंगरपुर की सीमा का निर्धारण करते हुए चिकली गांव मे से एवं बांसवाड़ा के मध्य कुशलगढ़ में से गुजरती है।
=>राजस्थान में कर्क रेखा की लंबाई 26 किलोमीटर है।

✓पड़ोसी राज्य एवं पड़ोसी देश
=>राजस्थान की कुल स्थलीय सीमा की लंबाई 5920 किलोमीटर है।

=>जिसमें से 1070 किलोमीटर अंतरराष्ट्रीय सीमा है भारत और पाकिस्तान के मध्य फैली रेडक्लिफ रेखा है।

=>रेडक्लिफ रेखा की कुल लंबाई 3310 किलोमीटर है।

=>216 किलोमीटर जम्मू कश्मीर, 514किमी पंजाब, 510 किलोमीटर गुजरात, 1070 किलोमीटर राजस्थान।

=>शेष बचे 4850 किलोमीटर अंतर राज्य सीमा 5 राज्यों( पंजाब हरियाणा उत्तर प्रदेश मध्य प्रदेश गुजरात) के साथ जुड़ती है।

✓राजस्थान में सीमाए दो प्रकार की पाई जाती है-
1.अंतरराष्ट्रीय

=>दो देशों के बीच पाए जाने वाली सीमा को अंतरराष्ट्रीय सीमा कहते हैं।

=>राजस्थान की पाकिस्तान से लगने वाली सीमा को रेडक्लिफ रेखा कहते हैं।

=>राजस्थान के 4 जिले (गंगानगर-210, जैसलमेर-464, बाड़मेर -228, बीकानेर -168) पाकिस्तान की सीमा के साथ लगते हैं।

अंतरराज्यीय सीमा
=>दो राज्यों के बीच पाई जाने वाली सीमा को अंतरराज्यीय सीमा कहते हैं।

=>राजस्थान की 5 राज्यों के साथ अंतर राज्य सीमा लगती है।

=>राजस्थान के पड़ोसी राज्य मध्य प्रदेश, पंजाब ,हरियाणा, उत्तर प्रदेश, गुजरात

=>राजस्थान की अंतर राज्य सीमा मध्य प्रदेश राज्य के साथ सबसे लंबी1600किमी.और पंजाब राज्य के साथ सबसे छोटी सीमा 89 किमी. लगती है।

=>पंजाब 89 किमी, हरियाणा 1262किमी., उत्तर प्रदेश 877 किमी, गुजरात 1022 किमी, मध्य प्रदेश 1600 किमी है।


👉 यह भी जाने :-
=>राजस्थान की अंतरराष्ट्रीयअंतर राज्य सीमा पर अवस्थित जिलों की संख्या 25 है

=>अंतरराष्ट्रीय सीमा पर अवस्थित जिलों की संख्या चार हैं।

=>अंतर राज्य सीमा पर अवस्थित जिलों की संख्या 23 हैं।

=>स्थान के केवल अंतर राज्य सीमा पर अवस्थित जिलों की संख्या 21 है।

=>तोक राष्ट्रीय सीमा पर अवस्थित जिलों की संख्या दो है( बीकानेर व जैसलमेर)।

=>राजस्थान के 2 जिले गंगानगर व बाड़मेर ऐसे जिले हैं जो अंतरराष्ट्रीय एवं अंतर राज्य दोनों सीमाओं पर अवस्थित है।

✓आकार
=>राजस्थान का अकार पतंगाकार / विषमकोनिया चतुर्भुजाकार है। ✓ राजस्थान का ऐतिहासिक स्वरूप

√ राज्य के अलग-अलग भाग विभिन्न कालों में भिन्न-भिन्न नामों से जाने जाते रहे हैं जो निम्न है:-
=>जंगल प्रदेश – महाभारत काल में वर्तमान जोधपुर व बीकानेर के क्षेत्र को जांगल प्रदेश कहते थ।

=>विराटनगर – मध्य प्रदेश का उल्लेख महाभारत में मिलता है अदानी विराटनगर(बैराठ) थी। जिसमें राजस्थान का पूर्व भाग जयपुर दोसा अलवर तथा भरतपुर का कुछ भाग आता था।

=>मरू प्रदेश – जंगल प्रदेश का यह रेतीला भाग मरू प्रदेश कहलाता है, मारवाड़ क्षेत्र के अंतर्गत जैसलमेर बीकानेर जोधपुर बाड़मेर तथा कुछ पाली में नागौर जिले का हिस्सा आता है।

=>हाडोती प्रदेश वर्तमान में हाड़ौती प्रदेश में बूंदी कोटा झालावाड़ और बारां जिले शामिल है । यहां पर बोली जाने वाली बोली को हाडोती बोली कहां जाता है।

=>ढूंढाड प्रदेश – वर्तमान जयपुर दोसा तथा उसका समीपवर्ती प्रदेश ढूंढाड़ कहलाता है, जहां पर प्राचीन समय में ढूंढ नदी बहा करती थी।

=>मेवात प्रदेश- राजस्थान का उत्तरी पूर्वी भाग (अलवर भरतपुर) मेवात प्रदेश के कहलाता है।

=>भोमट प्रदेश – डूंगरपुर, पूर्वी सिरोही तथा उदयपुर जिले का वह भाग जो पहाड़ी ढालो से आच्छादित है वह प्रदेश भोमट कहलाता है।

=>कांठल – माही नदी के किनारे स्थित प्रतापगढ़ जिले के भू भाग को कांठल के नाम से जाना जाता है।

=>ऊपरमाल – भैंसरोडगढ़( चित्तौड़गढ़) से बिजोलिया (भीलवाड़ा) के मध्य ऊपर उठा हुआ पठारी भू भाग जो कि अत्याधिक उपजाऊ है, ऊपरमाल कहलाता है।

=>मेरवाड़ा – अजमेर के आसपास का पहाड़ी प्रदेश मेरवाड़ा प्रदेश के नाम से जाना जाता है।

=>शेखावाटी प्रदेश के अंतर्गत चुरु, सीकर, झुंझुनू जिले आते हैं।

=>देशहरो – उदयपुर में स्थित जरगा व रागा पहाड़ी के मध्य सदैव हरे भरे वृक्षों से आच्छादित रहने के कारण इस प्रदेश को देशहरो कहां गया।

=>गिरवा- उदयपुर का वह क्षेत्र जो चारों और पहाड़ी क्षेत्रों से गिरा हुआ हो गिरवा कहलाता है।

=>छप्पन का मैदान – प्रतापगढ़ बांसवाड़ा जिले के मध्य छप्पन नदी नालों का समूह होने के कारण यह प्रदेश छप्पन का मैदान या छप्पन प्रदेश के कहलाता है।

=>राठ /अहिरवाट – अलवर जिले की हरियाणा राज्य को स्पर्श करता हुआ मुंडावर बहरोड व बानसूर का क्षेत्र अहिरवाट के नाम से जाना जाता है।

=>सपालदक्ष – अजमेर, नागौर का क्षेत्र सम्मिलित रूप से सपाल दक्ष के नाम से जाना जाता है।

=>चंद्रावती – सिरोही व उसके आसपास का क्षेत्र चंद्रावती के नाम से जाना जाता है। Rajasthan ki sthiti aur vistar

राजस्थान का सामान्य परिचय पढने के लिए क्लीक करे

राजस्थान सामान्य ज्ञान के अन्य टॉपिक पढने के लिए क्लिक करे

4 thoughts on “Rajasthan ki sathiti aur vistar| राजस्थान की स्थिति और विस्तार |Rajasthan GK”

Leave a Comment

error: डाटा कॉपी करने की कोशिश न करें , धन्यवाद!!!!